Friday, 19 March 2021

 विज्ञान शिक्षण की प्रयोगशाला विधि

Laboratory Method of Science Teaching

विज्ञान शिक्षण | प्रयोगशाला विधि | Laboratory Method | Science Teaching
विज्ञान शिक्षण की प्रयोगशाला विधि
Laboratory Method of Science Teaching


प्रयोगशाला विधि की परिभाषा एक विद्वान ने इस प्रकार दी है, "प्रयोगशाला विधि से हमारा तात्पर्य है कि छात्रों को इस प्रकार सिखाया जाना चाहिए कि छात्रों को स्वयं प्रयोग करने तथा निरीक्षण करने का अवसर मिले। शिक्षक उनकी क्रियाओं का निरीक्षण करें और छात्रों से निरीक्षण के आधार पर लिखित कार्य करवाएं। प्रयोगशाला विधि से सिखाने में छात्र निश्चित रूप से सक्रिय रहते हैं। प्रयोगशाला विधि के माध्यम से सिखाने में छात्र जितने सक्रिय रहते हैं उतने किसी अन्य विधि द्वारा सिखाने में नहीं रहते। प्रयोगशाला विधि में प्रत्येक बालक स्वयं प्रयोग करता है तथा अपने प्रयत्नों द्वारा परिणाम तक पहुंचने का प्रयास करता है।"

प्रयोगशाला विधि के गुण 

  • यह विधि बालकों को वैज्ञानिक विधि का प्रशिक्षण प्रदान करती है।
  • इस विधि में कक्षा के समस्त बालक सक्रिय होकर निश्चित लक्ष्य तक पहुंचने का प्रयास करते हैं।
  • छात्र वैज्ञानिक परिणामों की स्वयं जांच करते हैं अतः वह उनके मस्तिष्क में पूर्णता स्पष्ट हो जाते हैं।
  • बालक प्रयोग तथा परीक्षण द्वारा समस्याओं को हल करने का प्रयास करते हैं।
  • उनमें उत्तरदायित्व की भावना का विकास होता है।
  • बालकों के निरीक्षण शक्ति का विकास होता है।

प्रयोगशाला विधि के दोष

  • प्रत्येक छात्र के लिए अलग-अलग उपकरण के व्यवस्था करना इसे कठिन बना देता है।
  • इसमें छात्रों का काफी समय नष्ट होता है क्योंकि प्रत्येक छात्र सफलतापूर्वक प्रयोग नहीं कर सकता।
  • जूनियर स्तर पर इसका उपयोग सफलतापूर्वक नहीं हो सकता।
  • मंदबुद्धि छात्र उपकरणों की तोड़फोड़ अधिक करते हैं।
  • रावत व अग्रवाल के अनुसार," योग पद्धति में दक्षता प्राप्त कर लेने का कोई विशेष लाभ अधिकांश छात्रों के लिए नहीं होता क्योंकि आगामी जीवन में कदाचित ही उन्हें इसका प्रयोग करने का अवसर मिले

प्रयोगशाला विधि के लिए सुझाव

  • अध्यापक को चाहिए कि वह छात्रों द्वारा प्रयोग करते समय उनका उचित मार्गदर्शन तथा निरीक्षण करें।
  • कक्षा में पढ़ाते समय जो समस्याएं उपस्थित होती हैं उनका समाधान प्रयोगशाला में ही किया जाना चाहिए।
  • प्रयोग करने के बाद बाद विवाद किया जाना चाहिए।
  • प्रयोगशाला में जाने से पूर्व अध्यापक बाद छात्रों के मध्य वाद विवाद होना चाहिए।
  • छात्रों को प्रयोग करने के लिए वादे नहीं किया जाना चाहिए बल्कि उनमें प्रयोग करने के प्रति रुचि उत्पन्न की जानी चाहिए।

हमारे अन्य आर्टिकल>>>

 B.Ed Education In Hindi 

बीएड शिक्षा हिंदी में 

>>>>>>जेंडर और इससे सम्बंधित सांस्कृतिक परिक्षेप्य 

>>>>लिंग का अर्थ। लिंग विभेद।  प्रकार व कारण 

>>>>>पर्यावरण का अर्थ। पर्यावरण का क्षेत्र। पर्यावरण के प्रमुख तत्व

>>>>>>वंशानुक्रम और वातावरण 

>>>>>>शिक्षा मनोवज्ञान व उसकी प्रकृति 

>>>>>>विज्ञान का अर्थ व उसकी प्रकृति 

>>>>>>आधुनिक जीवन में विज्ञान शिक्षण का महत्व 

>>>>>>विज्ञान शिक्षण के उद्देश्य

>>>>>>वैश्वीकरण का अर्थ। वैश्वीकरण में भौतिक विज्ञान की भूमिका 

>>>>>>शिक्षण के विभिन्न स्तर 

>>>>>>शिक्षण व्यूह रचना का अर्थ एवं परिभाषा 

>>>>>>शैक्षिक तकनीकी के विभिन्न रूप 

>>>>>>माध्यमिक शिक्षा आयोग या मुदलियार आयोग १९५२-५३ 

>>>>>>मनोविज्ञान का शिक्षा पर प्रभाव 

>>>>>>मानव संसाधन विकास 

>>>>>>ज्ञान का अर्थ और उसके प्रमुख सिद्धांत 

>>>>>>पिछड़े बालकों की शिक्षा 

>>>>>>गणित शिक्षण का महत्व

>>>>>>गणित का अर्थ एवं प्रकृति 

>>>>>>विज्ञान शिक्षण की प्रयोगशाला विधि 

>>>>>>बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण कथन 

>>>>>>लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास की अवस्था का सिद्धांत

>>>>>>जीन पियाजे का संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत



No comments:

Post a Comment